लखनऊ (5 अगस्त 2019): आज परिकल्पना परिवार के मार्गदर्शक  डॉ राम बहादुर मिश्र की अध्यक्षता में परिकल्पना की भावी योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा हेतु एक आपात बैठक सम्पन्न हुयी, जिसमें नेपाल में मूसलाधार बारिश की वजह से आई बाढ़ और उसकी वजह से हुए भूस्खलन और सभी प्रमुख राजमार्गों पर लोगों की आवाजाही व यातायात बाधित होने तथा कश्मीर मुद्दे पर भारत सहित नेपाल में भी आतंकी गतिविधियों के एलर्ट को देखते हुये अगले महीने 8 सितंबर 2019 से नेपाल की राजधानी काठमाण्डौ एवं पोखरा मे शुरू होने वाले अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी उत्सव को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया है। 

उल्लेखनीय है कि एक माह बाद यानी 8 सितंबर 2019 से 13 सितंबर 2019 के बीच नेपाल की राजधानी काठमाण्डौ और पोखरा में अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी उत्सव प्रस्तावित है। व्यवस्था की समीक्षा के क्रम में यह महसूस किया गया कि उपरोक्त कारणों से व्यवस्था में लगातार अवरोध की स्थिति बनी हुयी है इसलिए इसे अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया जाये।

इस बैठक में यह तय किया गया कि उक्त उत्सव के स्थगन की स्थिति में उन सभी प्रतिभागियों  जिनके द्वारा प्रतिभागिता राशि जमा कराई गयी है, उन्हें एक निश्चित समयावधि में बिना किसी कटौती के उनके खाते में स्थानांतरित कर दी जाएगी। 

(परिकल्पना के मीडिया प्रभारी की रिपोर्ट) 

2 टिप्पणियाँ:

एक अबोध बालक😊अरुण अतृप्त said... August 5, 2019 at 10:22 PM

वैश्विक स्तर पर व अंतरराज्यीय स्तर आतंकवाद की घोर निंदा की जानी चाहिए असंख्य मानवीय जीवन इस दावानल की अग्नि में असमय ही काल के ग्रास बन रहे , मैँ व्यक्तिगत तौर पर परिकल्पना के मीडिया प्रभारी के उक्त सुरक्षा कारणों को ध्यान मे रख कर लिए गए निर्णय का स्वागत करता हूं साथ ही एक विचार उनके सन्मुख रखना चाहता हूँ कि नेपाल के स्थान पर किसी अन्य एशिया देश जो कि इस प्रकार के परिवेश में सुरक्षित जान पड़ता हो का चुनाव कर कोई सहमति बन सके तो , सबकी अनुमति से कोई निर्णय लें तो मुझे प्रसन्नता होगी

रवीन्द्र प्रभात said... August 7, 2019 at 4:43 PM

आपके विचारों का सम्मान, किन्तु इतने कम समय में सभी को किसी नये स्थान के चयन पर सहमति ली जा सकती है?

 
Top